Showing posts with label श्री राम कृष्ण परम हंस. Show all posts
Showing posts with label श्री राम कृष्ण परम हंस. Show all posts
       
Incredible Humility

Incredible humbleness

अदभुत विनम्रता
स्वामीरामकृष्णपरमहंसकरुनाऔरदयाकेसागरथे/ श्रीरामकृष्णपरमहंसअपनेजीवनकाल  में लोगोंकोअहंकारऔरघमंडकोदूरकरनेऔरनम्रबननेकेअनेकोंउपायबतायाकरतेथे/ कोईभीव्यक्तिजबउनसेमिलनेकोआतातोवहउसकेअभिनन्दनकरनेसेपहलेहीउसकाअभिनन्दनकरतेथे/
वहमाँकालीसेevery day रोरोकरकरprayer करते थे कि- हेमाँ! मुझसेEgotismकोदूररखना/ मुझमेंनम्रताऔरदीनताभरदो/ मुझेमानऔरसम्मानकुछभीनहींचाहिए/ बस, माँतुममेराअहंकारदूरकरकेमुझेदीनसेभीदीनऔरहीनसेभीहीनबनादोऔरअपनीकृपाछावंमेंरखलो/”
          एक दिनश्रीरामकृष्णकृष्णनगरकेकिसीसज्जनकेयहाँगयेउसीtime वहांउससज्जनसेमिलनेकोदीनबंधुन्यायरत्नभीवहांगये/ वेन्यायशास्त्रकेबहुतबड़ेविद्वानथे/ श्रीरामकृष्णनेउन्हेंदेखतेहीस्वभावकेअनुसारउन्हेंप्रणामकिया, परन्तुन्यायरत्ननेउन्हेंप्रणामनहींकियाऔरबोले- “ क्याआपमेरेप्रणामकेयोग्यहै?” श्रीरामकृष्णनेउत्तरदिया- “ मैंआपकादासहूँ/ मेरेलिएसभीमाननीयहै/” न्यायवेत्ताबोले– “ मैनेजोपूछाहै, उसकाanswer  दीजियेकिक्याआपमेरेप्रणामकेयोग्यहै?” श्रीरामकृष्णनेबड़ेविनम्रभावसेकहा- “ मैंसंसारमेंसबसेनीचहूँ/ मैंसवकोंकाभीसेवकहूँ/ मेरेलिएसभीआदरणीयहै/” न्यायवेत्तानेपुनःकहा–“ आपमेरीबातनहींसमझे, मैंपूछनाचाहताहूँकिआपकेशरीरपेजनेऊहैयानहीं? यदीआपसंन्यासीहै, तोमैंआपकोप्रणामकरूँ/ अर्थात्मैंपूछताहूँकिक्याआपसंन्यासीहै?” परन्तुअहंकारसेदूर श्रीरामकृष्णनेअपनेमुँहसेनहीकहाकिवोएकसंन्यासीहै/ बहुतपूछनेकेबादहीकहाकिहाँमैंएकसंन्यासीहूँ/
दोस्तोंयेसीविनम्रतायदीहमलोगअपनेजीवनमेउतारलेऔरarrogance से खुदकोदूरकरनेकाप्रयासहमसभीकरेतोहमारेऔरहमारेआस-पासकासंसारकितनासुंदरहोजायेगाकहीकोईभेद-भाव, ऊँच-नीच, जलननहींहोगी/ चारोंओरप्रेमऔरसदभावनाकाविकासहोगा/ जीवनमैंउन्नतिऔरशांतिकेरास्तेखुलेंगेक्योंकिविनम्रव्यक्तिकेआगेसंसारझुकताहै/        




          Note: The motivational story shared here is not my original creation, I have read it before and I am just providing it in Hindi.



Related Post

            




Incredible Humility - A inspirational story in Hindi, (अदभुत विनम्रता)

       
Incredible Humility

Incredible humbleness

अदभुत विनम्रता
स्वामीरामकृष्णपरमहंसकरुनाऔरदयाकेसागरथे/ श्रीरामकृष्णपरमहंसअपनेजीवनकाल  में लोगोंकोअहंकारऔरघमंडकोदूरकरनेऔरनम्रबननेकेअनेकोंउपायबतायाकरतेथे/ कोईभीव्यक्तिजबउनसेमिलनेकोआतातोवहउसकेअभिनन्दनकरनेसेपहलेहीउसकाअभिनन्दनकरतेथे/
वहमाँकालीसेevery day रोरोकरकरprayer करते थे कि- हेमाँ! मुझसेEgotismकोदूररखना/ मुझमेंनम्रताऔरदीनताभरदो/ मुझेमानऔरसम्मानकुछभीनहींचाहिए/ बस, माँतुममेराअहंकारदूरकरकेमुझेदीनसेभीदीनऔरहीनसेभीहीनबनादोऔरअपनीकृपाछावंमेंरखलो/”
          एक दिनश्रीरामकृष्णकृष्णनगरकेकिसीसज्जनकेयहाँगयेउसीtime वहांउससज्जनसेमिलनेकोदीनबंधुन्यायरत्नभीवहांगये/ वेन्यायशास्त्रकेबहुतबड़ेविद्वानथे/ श्रीरामकृष्णनेउन्हेंदेखतेहीस्वभावकेअनुसारउन्हेंप्रणामकिया, परन्तुन्यायरत्ननेउन्हेंप्रणामनहींकियाऔरबोले- “ क्याआपमेरेप्रणामकेयोग्यहै?” श्रीरामकृष्णनेउत्तरदिया- “ मैंआपकादासहूँ/ मेरेलिएसभीमाननीयहै/” न्यायवेत्ताबोले– “ मैनेजोपूछाहै, उसकाanswer  दीजियेकिक्याआपमेरेप्रणामकेयोग्यहै?” श्रीरामकृष्णनेबड़ेविनम्रभावसेकहा- “ मैंसंसारमेंसबसेनीचहूँ/ मैंसवकोंकाभीसेवकहूँ/ मेरेलिएसभीआदरणीयहै/” न्यायवेत्तानेपुनःकहा–“ आपमेरीबातनहींसमझे, मैंपूछनाचाहताहूँकिआपकेशरीरपेजनेऊहैयानहीं? यदीआपसंन्यासीहै, तोमैंआपकोप्रणामकरूँ/ अर्थात्मैंपूछताहूँकिक्याआपसंन्यासीहै?” परन्तुअहंकारसेदूर श्रीरामकृष्णनेअपनेमुँहसेनहीकहाकिवोएकसंन्यासीहै/ बहुतपूछनेकेबादहीकहाकिहाँमैंएकसंन्यासीहूँ/
दोस्तोंयेसीविनम्रतायदीहमलोगअपनेजीवनमेउतारलेऔरarrogance से खुदकोदूरकरनेकाप्रयासहमसभीकरेतोहमारेऔरहमारेआस-पासकासंसारकितनासुंदरहोजायेगाकहीकोईभेद-भाव, ऊँच-नीच, जलननहींहोगी/ चारोंओरप्रेमऔरसदभावनाकाविकासहोगा/ जीवनमैंउन्नतिऔरशांतिकेरास्तेखुलेंगेक्योंकिविनम्रव्यक्तिकेआगेसंसारझुकताहै/        




          Note: The motivational story shared here is not my original creation, I have read it before and I am just providing it in Hindi.



Related Post